E-commerce in hindi

Share From Here

E-commerce in hindi

ई-कॉमर्स जिसे इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स के रूप में भी जाना जाता है, यह एक प्रोसेस हैं, जिसके द्वारा बिज़नेस और कन्‍जूमर एक इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से वस्तुए और सर्विसेस को बेचते और खरीदते हैं।ई-कॉमर्स की शुरुआत 1960 के दशक से शुरू हुई थी, जब बिज़नेसेस ने अन्य कंपनियों के साथ बिज़नेस डयॉक्‍युमेंट को शेयर करने के लिए Electronic Data Interchange (EDI) का प्रयोग शुरू किया।

NOTE- कुछ ई-कॉमर्स कंपनिया जैसे Flipkart,Amazon,E-Bay, HomeShop, Myntra, Snapdeal, Shopclues, etc.

ई-कॉमर्स के 4 बुनियादी प्रकार हैं:

1) Business-to-Consumer (B2C):

इस बिज़नेस में एक बिज़नेस इंटरनेट पर प्रॉडक्‍ट या सर्विसेस को सिधे कन्‍जूमर को बेचता हैं।उदाहरण के लिए आप Amazon, Flipkart ।

2) Business-to-Business (B2B):

यहां कंपनियां इंटरनेट पर अन्य कंपनियों को प्रॉडक्‍ट या सर्विसेस को बेचती हैं।

3) Consumer-to-Consumer (C2C)–

जब कन्‍जूमर अपने प्रॉडक्‍ट को किसी अन्‍य कन्‍जूमर को इंटरनेट पर बेचता हैं, तब इस ट्रैन्सैक्शन को Consumer-to-Consumer (C2C) कहा जाता हैं। जैसे– OLX

4) Consumer-to-Business (C2B)–

इसमें consumer जो है वह business organisation को प्रोडक्ट या सर्विस प्रदान करते है.

(5) G2C (Government to Citizen)

E-governance–

ई- गवर्नेंस का मतलब होता है, सभी प्रकार के सरकारी काम जो Online Service के जरिए जनता तक पहुंचाना|

 Point of sale(POS):-

POS Terminal दुकान या खुदरा स्टोर में वह स्थान होता है जहाँ से ग्राहक सामान खरिदते है और उसका पेमेंट ऑनलाइन या कार्ड से करते है.