Computer Networking

Share From Here

Computer Networking : कम्प्यूटर नेटवर्किंग–

नेटवर्किंग का परिचय–

दो या दो से अधिक कंप्यूटरों का एक समूह जो टेलीफोन लाइनों, को-एक्सियल केबल, सेटेलाइट लिंक, रेडियो /माइक्रोवेव ट्रांसमिशन या कुछ अन्य संचार तकनीकों से जुड़े होते है और रिसोर्सेस (जैसे प्रिंटर, फोल्डर इत्यादी) के साथ एक दूसरे से कम्युनिकेट करते है। और शेयर करते है।

Components of a Computer Networing—

Server–

यह नेटवर्क का सबसे प्रमुख अथवा केंद्रीय कंप्यूटर होता है नेटवर्क के अन्य सभी कंप्यूटर सर्वर से जॉइंट रहते है ,अधिकांश अथवा समस्त डाटा सर्वर में स्टोर होता है  |

Node—

सर्वर के आलावा अन्य सभी कंप्यूटर नोड अथवा वर्कस्टेशन कहलाते है,  ये वे कंप्यूटर होते है जिन पर यूजर कार्य करता है|

Repeater—

एक इलेक्ट्रनिक डिवाइस है जो निम्न स्तर के सिंगनल को प्राप्त करके उन्हें उच्य स्तर का बनाकर वापस भेजता है इस प्रकार के सिंगनल में लम्बी दूरिया बिना किसी बाधा के तय कर सकते है  |

Hub—

HUB एक Network Device है | जिनका उपयोग Network में Computer की संख्या को बढानें के लिए किया जाता है | Network के Size को Increase करने के लिए भी HUB का प्रयोग किया जाता है |

Gateway—

गेटवे एक ऐसी युक्ति है जो विभिन्न नेटवर्क प्रोटोकॉल को आपस में जॉइंट करता है|

Modem—

Modem यह शब्‍द MODulator और DEModulator से बना है। मॉडेम का modulator पार्ट, डिजिटल सिग्नल को एनालॉग सिग्नल में कनवर्ट करता है, और demodulator पार्ट एनालॉग सिग्नल को डिजिटल सिग्नल में कन्‍वर्ट करता है।

नोट– ट्रांसमिशन के तीन मोड होते हैं, सिम्पलेक्स,हाफ डुप्लेक्स और फुल डुप्लेक्स।

सिम्प्लेक्स–

एक साधारण ट्रांसमिशन मोड में, प्रेषक (Sender) और रिसीवर (Receiver) के बीच संचार केवल एक दिशा में होता है। इसका मतलब है कि केवल प्रेषक (Sender) डेटा भेज सकता है, और रिसीवर (Receiver) केवल डेटा प्राप्त कर सकता है।

हाफ डुप्लेक्स–

हाफ डुप्लेक्स ट्रांसमिशन मोड में, प्रेषक (Sender) और रिसीवर (Receiver) के बीच संचार दोनों दिशाओं में होता है लेकिन, एक बार में एक ही दिशा में कम्युनिकेशन हो सकता हैं|

फुल डुप्लेक्स–

फुल डुप्लेक्स ट्रांसमिशन मोड में, प्रेषक (Sender) और रिसीवर (Receiver) के बीच संचार एक साथ हो सकता है। प्रेषक (Sender) और रिसीवर (Receiver) दोनों एक साथ एक ही समय में डाटा भेज और प्राप्त कर सकते हैं।

Models of Computer Networking—

  • Peer to Peer Network(P2P)—
  • Client/Server Network—

Type of computer networking—

नेटवर्क को विभिन्न आधार पर विभाजित किया जाता है। उनमें से मुख्यतः निम‌्न प्रकार के होते है।

Based on Network size:-

(1)LAN (LOCAL AREA NETWORK )–

लोकल एरिया नेटवर्क स्थानीय स्तर पर काम करने वाला नेटवर्क है इसे संक्षेप में लेन कहा जाता हैं| यह एक ऐसा कंप्यूटर नेटवर्क है जो स्थानीय इलाकों जैसे- घर, कार्यालय, या भवन समूहों को कवर करता है|

(2)MAN(Metropolitan Area Network )–

MAN का कवरेज एरिया सामान्यतया एक metrocity या टाउन तक फैला हो सकता है|

(3)WAN (WIDE AREA NETWORK )–

WAN का कवरेज एरिया  एक देश या पुरे विश्व में फैला हो सकता है।

Topology

टोपोलॉजी नेटवर्क की आकृति या लेआउट को कहा जाता है | नेटवर्क के विभिन्न नोड किस प्रकार एक दुसरे से जुड़े होते है तथा कैसे एक दुसरे के साथ कम्युनिकेशन स्थापित करते है, उस नेटवर्क को टोपोलॉजी ही निर्धारित करता है |

Type Of Topology–

Ring—

इसमें सभी कम्प्यूटर एक गोलाकार आकृति में लगे होते है प्रत्येक कम्प्यूटर अपने अधीनस्थ (Subordinate)  कम्प्यूटर से जुड़े होते है |

ring

ring

BUS—

बस टोपोलॉजी (Bus Topology) में एक ही तार (Cable) का प्रयोग होता है और सभी कम्प्यूटरो को एक ही तार से एक ही क्रम में जोड़ा जाता है

bus

bus

Star—

इस टोपोलॉजी में सारे कंप्यूटर एक हब के द्वारा जुड़े रहते है।

 

star

star

Tree—

ट्री टोपोलॉजी में स्टार तथा बस दोनों टोपोलॉजी के लक्षण विधमान होते है | इसमें स्टार टोपोलॉजी की तरह एक होस्ट कंप्यूटर होता है और बस टोपोलॉजी की तरह सारे कंप्यूटर एक ही केबल से जुड़े रहते हैं |

tree

tree

Mesh or Point to Point—

मेश टोपोलॉजी में सारे कंप्यूटर कही न कही एक दूसरे से जुड़े रहते हैं और एक दूसरे से जुड़े होने के कारण ये अपनी सूचनाओ का आदान प्रदान आसानी से कर सकते हैं |

mesh

mesh